मंगलवार

महात्मा गाधीं की आरती


जय श्री बापू प्यारे, जय हम राष्ट्रपिता हमारे।
सत्य के थे पुजारी, जय हो अहिसां के रखवारे॥
तुम हो श्रेष्ठ महात्मा तुम हो मार्गदर्शक।
तुम सबके रखवारे, तुम सच्चे पथ प्रदर्शक॥
सत्याग्रह भारतछोडो, तुम आन्दोलनकर्ता।
गिरमिट कृषक दलित, तुम सबके दुःखहर्ता॥
जय श्री बापू प्यारे, जय हम राष्ट्रपिता हमारे।
सत्य के थे पुजारी, जय हो अहिसां के रखवारे॥
दीनदयाल दयानिधि, बापू सब के हितकारी।
त्यागमूर्ति मननिश्चल, सब संशयहारी॥
ऎनक धोती लाठी चप्पल संग विचरण करते।
पितृभक्त पत्नीव्रत, बापू सबकी सेवा करते॥
जय श्री बापू प्यारे, जय हम राष्ट्रपिता हमारे।
सत्य के थे पुजारी,जय हो अहिसां के रखवारे॥
साबरमति के सन्त ने सबकी की भलाई।
सत्य अहिसां के बल पर आजादी दिलवाई॥
जो कोई प्रेमसहित गाधींवाद अपनाये,
सर्व प्रिय बन परम सुख पाए॥
जय श्री बापू प्यारे, जय हम राष्ट्रपिता हमारे।
सत्य के थे पुजारी, जय हो अहिसां के रखवारे॥
...................................................................
हे राम!

...................................................................
॥बापू गाधीं की जय॥
Related Posts with Thumbnails